बएसएनएल क बैलेंस कैसे देख जत है

जागरण संवाददाता, रुड़की: गन्ना पर्चियों की जानकारी लेने के लिए किसानों को अब गन्ना समितियों के चक्कर नहीं काटने पड़ रहे हैं। गन्ना विभाग की ओर से पर्ची जारी होते ही किसानों के पास मैसेज पहुंच जा रहे हैं। इससे किसानों के चेहरे खिल गए हैं। वहीं, गन्ना विभाग उन किसानों के मोबाइल नंबर भी अपडेट करने में जुट गया है, जिनके नंबर अभी तक अपडेट नहीं हो सके हैं।

मां के बाद अब 17 दिन का बेटा कोरोना पॉजिटिव,

17दिनकेबच्चेकाइलाजकैसेहोयहस्वास्थ्यमहकमेकेलिएसबसेबड़ीचुनौतीहै,क्योंकिइसदौरानड्रिपभीलगानापड़ताहैऔरदवाइयांभीदेनीपड़तीहै।का