आंवला विधायक के क्षेत्र में पीएचसी तो चार हैं लेकिन इलाज कहीं नहीं होता, बस ताले लटके रहते, जानें गांवों में स्वास्थ्य सुविधाओं की स्थिति

बरेली,जेएनएन।पूर्वसिंचाईमंत्रीऔरमौजूदाआंवलाविधायकधर्मपालसिंहकेविधानसभाक्षेत्रमेंशामिलमझगवांमेंकोविडकीतीसरीलहरसेलड़ाईकीतैयारीनहीं।पीएचसीमेंबड़ागांवकीजर्जरइमारतमुंहचिढातीहै।मरम्मतहोनेकेबावजूदइमारतपूरीतरहसेठीकनहींहोसकी।मेडिकलस्टाफदूरकीकोड़ीहै।कुछऐसाहीहालबरासिरसाऔरगैनीपीएचसीकाहै।सीएचसीमझगवांमेंस्वास्थ्यसुविधाओंकेहालातठीकमिले,लेकिनकोविडसंक्रमणकेफैलावऔरफेल्सीफेरममलेरियाकेआक्रामकरुखकोदेखतेहुएऊंटकेमुंहमेंजीरासरीखाहै।

मझगवांब्लाॅकमेंसीएचसीकीइमारतअच्छीहै।आठडॉक्टरऔरपर्याप्तपैरामेडिकलस्टाफहै।कोरोनावैक्सीनेशन,जांच,24घंटेइमरजेंसीआदिव्यवस्थाएंसंतोषजनककहीजासकतीहैं।लेकिनब्लॉककेसुदूरग्रामीणअंचलमेंस्वास्थ्यव्यवस्थाएंपूरीतरहबदहालहैं।ब्लॉकमेंचारअतिरिक्तप्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रबड़ागांव,बरासिरसा,गैनीऔरकंधरपुरगांवमेंहैं।चारोंस्वास्थ्यकेंद्रोंपरचिकित्सकोंऔरस्टाफकीकमीहै।इलाजकेलिएयहांपहुंचनेवालोंकोमायूसीहीहाथलगतीहै।बड़ागांवअतिरिक्तपीएचसीकीहालतसबसेज्यादाखराबहै।यहांकाभवनबेहदजर्जरहै।अस्पतालपरतीनदर्जनसेअधिकगांवकीकरीब40हजारआबादीकीनिर्भरताहै।

बरासियापीएचसीमेंतालेहीलटकेमिलतेहैंः बरासिरसापीएचसीकाभवनकुछहदतकठीकठाककहाजासकताहै।किंतुस्वास्थ्यसुविधाओंकेपैरामीटरपरयहअस्पतालभीखरानहींउतरताहै।इसअस्पतालपरअक्सरतालेलटकेरहतेहैं।पीएचसीगैनीकेभवनकीभीकुछसमयपूर्वमरम्मतकराईगईहै।इसअस्पतालपरक्याराब्लॉककेभीदर्जनभरसेअधिकग्रामोंकेअलावाकरीब45-50हजारआबादीकीनिर्भरताहै।

मुख्यमंत्रीनेउद्घाटनकिया,बसइलाजहीनहींहुआःपीएचसीकंधरपुरकीबिल्डिंगबेहदशानदारहै।वर्ष2019मेंआयुष्मानभारतयोजनाकेअंतर्गतबनेइसभवनकालोकार्पणमुख्यमंत्रीयोगीआदित्यनाथनेकियाथा।क्षेत्रकेतीनदर्जनसेअधिकग्रामोंकोबेहतरचिकित्सासेवादेनेकेलिएबनायागयायहअस्पतालशुरूसेहीअपनेउद्देश्यसेभटकगया।यहांअधिकांशसमयतालेलटकेरहतेहैं।सुविधाओंकेनामपरअस्पतालकीबिल्डिंगहीहै।डॉक्टरसाहबकभी-कभारभूलेभटकेआजातेहैं।रखरखावकेअभावमेंअबअस्पतालकेभवनमेंपेयजलकेलिएलगाएगएसभीनलऔरसमरसेबलखराबहोचुकेहैं।

38स्वास्थ्यउपकेंद्रबनेजुआरियोंऔरशराबियोंकेअड्डेः ब्लॉकमझगंवाक्षेत्रमेंकुल38स्वास्थ्यकेंद्रहैं।जिनमेंसे30केभवनकानिर्माणसरकारीजमीनपरकरायागयाहै।जबकिशेषबचेआठस्वास्थ्यउपकेंद्रकिरायेकेभवनोंमेंसंचालितहोरहेहैं।अधिकांशमिनीअस्पतालकहेजानेवालेइनस्वास्थ्यकेंद्रोंमेंसेअधिकांशपरकब्जेहैं।इनअस्पतालोंमेंभूसाउपलेभरेहैं।बिशारतगंजमेंबलेईभगवंतपुररोडपरबनामिनीअस्पतालबिशारतगंजकस्बेमेंसरकारीस्वास्थ्यसेवाकाएकमात्रसाधनहै।दुर्भाग्यकीबातहैकि15वर्षबीतजानेकेबादभीयहमिनीअस्पतालअबतकशुरूनहींहुआहै।हालातयहहैंकिअस्पतालकेसभीदरवाजेऔरखिड़कियांनलचोरीहोचुकेहैं।इमारतकापूराफर्शधंसगईहै।दीवारेंजर्जरहोगईहैं।

क्याकहतेहैसीएमओः सीएमओडॉ.सुधीरगर्गनेबतायाकिमझगवांहमारीसबसेअच्छीसीएचसीमेंशामिलहै।स्वास्थ्यउपकेंद्रोंकीव्यवस्थाओंकोदिखवालियाजाएगा।स्वास्थ्यसुविधाओंकोबेहतरकरनेकेलिएलगातारप्रयासहोरहाहै।