आपका बजट: कई मायनों में खास होगा सरकार का इस बार का बजट

नईदिल्ली[आशुतोषत्रिपाठी]।आगामी1फरवरीकोकेंद्रकीनरेंद्रमोदीसरकारअपनाचौथाऔरआखिरीपूर्णकालिकबजटपेशकरेगीजोकईमायनोंमेंखासहोगा।देशमेंनईअप्रत्यक्षकरप्रणालीयानीवस्तुएवंसेवाकर(जीएसटी)लागूकिएजानेकेबादयहपहलाबजटहोगा।इसकेअलावा2019मेंहोनेवालेलोकसभाकेआमचुनावोंऔरकईराज्योंकेविधानसभाचुनावोंसेपहलेआखिरीबजटहोगा।यहीवजहहैकिवित्तमंत्रीअरुणजेटलीकेलिएलोगोंकीउम्मीदोंऔरराजकोषीयअनुशासनकेबीचसंतुलनसाधनेकेलिहाजसेयहबजटकिसीचुनौतीसेकमनहींहै।

बजटपरचर्चाओंकासिलसिला शुरू

बजटपरचर्चाओंकासिलसिलाचालूहोचुकाहै।इनअपेक्षाओंकेबीचहमेंयहभीसमझनाहोगाकिबजटकुलमिलाकरएकलेखासंबंधीकवायदहीथा,हैऔरहमेशारहेगा।हालांकिसरकारकीओरसेकीजानेवालीघोषणाओंकेलिएबजटएकमहत्वपूर्णअवसरहोताहै,लेकिनऐसानहींहैकिनईघोषणाएंकरनेकेलिएसरकारबजटकीप्रतीक्षाकरेगी।फिरभी1991केबजटमेंलागूकिएगएसुधारोंकेबादसेइसेलेकरलोगोंकीउत्सुकताऔरउम्मीदेंबढ़ीहैं।ऐसेमेंउद्योगपतियोंसेलेकरआमकरदाताऔरकिसानतक,हरेकआमऔरखासकीवित्तमंत्रीकेबजटभाषणमेंदिलचस्पीकोनकारानहींजासकताहै।अलग-अलगक्षेत्रोंसेसंबंधितलोगबजटमेंअपनाहिस्साचाहतेहैं।

कृषिएकसंवेदनशीलक्षेत्र

कृषिप्रधानदेशहोनेकेनातेकृषिनेहमेशाएकसंवेदनशीलक्षेत्रकेतौरपरसुर्खियांबटोरीहैं।ग्रामीणअर्थव्यवस्थाहमारीआर्थिकप्रणालीकाआधारहैजिसमेंआईसुस्तीसरकारकेलिएचिंताकाकारणबनीहुईहै।यूंतोकृषिराज्योंकामसलाहै,लेकिनकेंद्रकेपासखेतीकेलिएसिंचाई,बीमा,ऋण,एकीकृतबाजारजैसेबुनियादीढांचामुहैयाकरानेकीकुछशक्तियांहैं।बीतेदिनोंराज्योंमेंकृषिऋणमाफकरनेकीहोड़देखनेकोमिलीजिसकासीधाअसरराजकोषीयस्थितिपरपड़ताहै,लेकिन2022तककिसानोंकीआयदोगुनीकरनेकेसरकारकेलक्ष्यकोपूराकरनेकेलिएऋणमाफीसेआगेबढ़तेहुएबुनियादीसुविधाओंकीओरध्यानदेनाचाहिएजिससेग्रामीणअर्थव्यवस्थामेंतेजीकादौरलौटे।इसकेलिएसरकारस्वामीनाथनकमिटीकीरिपोर्टकीसिफारिशोंपरगौरकरसकतीहैजिसमेंकृषिउत्पादकतामेंलगातारबढ़ोतरीहोनेकेबादभीकिसानकीस्थितिमेंसुधारनहोनेकेकारणोंपरविचारकियागयाहै।

भारतसेदुनियाकीउम्मीद

इसकेबादबारीआतीहैउद्योगोंकी।चीनकेविनिर्माणउद्योगमेंआरहीढलानकेमद्देनजरदुनियाभारतकीओरउम्मीदभरीनजरोंसेदेखरहीहै।कारोबारीसुगमताकेलिहाजसेभारतकीरैंकिंगमेंहुआसुधारवैश्विकउद्योगोंकाआकर्षणबढ़ारहाहै।ऐसेमेंउम्मीदहैकिवित्तमंत्रीबजटमेंमेकइनइंडिया,स्टार्टअपइंडिया,मुद्रायोजनाजैसेअभियानोंकोगतिदेनेकीकोशिशकरेंगे।उद्योगोंकासीधासंबंधरोजगारोंसेहैजिसमोर्चेपरसरकारकाफीआलोचनाएंझेलरहीहै।सचहैकिहरवर्षतैयारहोरहेकरीब10लाखयुवाओंकोसरकारीनौकरीदेनासंभवनहींहै,लेकिनलघुएवंमध्यमउद्यमोंकोबढ़ावादेकरसरकाररोजगारकीसमस्यासेपारपानेकीकोशिशकरसकतीहै।लघुएवंमध्यमउद्योगोंकोसरकारीसहायताकीसख्तजरूरतइसलिएभीहैक्योंकिनोटबंदीऔरजीएसटीलागूकिएजानेकासबसेअधिकअसरइन्हींक्षेत्रोंपरपड़ाहैजबकिरोजगारसृजनमेंइसक्षेत्रकेयोगदानकोनकारानहींजासकताहै।

बुनियादीढांचाक्षेत्र

कृषि,उद्योगऔररोजगारकोप्रभावितकरनेवालाएकपहलूबुनियादीढांचाक्षेत्रहै।मोदीसरकारकेरिकॉर्डपरगौरकरेंतोपताचलताहैकिबुनियादीढांचाक्षेत्रकोअबतकप्राथमिकतामिलतीरहीहै।भारतमालापरियोजनाकेअंतर्गतदेशमेंसड़कोंकाजालबिछानेकीबातहोयासागरमालाकेतहतबंदरगाहोंकाविकास,सरकारनेइसओरभरपूरध्यानदियाहै।सरकारकोएकीकृतबुनियादीढांचाक्षेत्रकोबढ़ावादेनेसेउद्योगोंकोप्रोत्साहितकरने,कृषिकीस्थितिकोबेहतरबनानेऔररोजगारमेंतेजीलानेमेंमददमिलेगी।इनसारीचीजोंकेबीचवित्तमंत्रीकाध्यानमध्यमवर्गसेताल्लुकरखनेवालेएकआमकरदाताकीओरभीहोगा।आमतौरपरबजटमेंशामिलकरप्रावधानोंमेंप्रत्यक्षऔरअप्रत्यक्षकरोंकाउल्लेखकियाजाताथा,लेकिनजीएसटीकीवजहसेयहपहलामौकाहोगाजबवित्तमंत्रीकेपासअप्रत्यक्षकरोंकेमामलेमेंकहनेकेलिएज्यादाकुछनहींहोगा।करदाताकेलिएपिटारेमेंक्याहोगा

स्वाभाविकहैकिलोगजाननाचाहेंगेकिसामान्यवर्गकेकरदाताकेलिएउनकेपिटारेमेंक्याहोगा।चूंकिसरकारकापूराजोरकरदेनेवालोंकादायराबढ़ाकरकरराजस्वमेंबढ़ोतरीकरनेकीओरहैऔरनोटबंदीनेइसओरसरकारकीमददभीकीहै,ऐसेमेंउम्मीदहैकिकरमेंछूटकीसीमाकादायराबढ़ाकरखर्चकरनेयोग्यआमदनीबढ़ाईजासकतीहै।मगरवित्तमंत्री1फरवरीकोजबअपनाबजटभाषणशुरूकरेंगेतोज्यादातरविशेषज्ञोंकीपैनीनजरवृहदआर्थिकआंकड़ोंकीओरहोगी।दरअसल2017केबजटमेंराजकोषीयघाटेकोजीडीपीके3.2फीसदकेस्तरपररखनेकालक्ष्यतयकियागयाथा,लेकिननवंबरमेंहीराजकोषीयघाटा2017-18केलिएनिर्धारितलक्ष्य5.5लाखकरोड़का112प्रतिशतहोगयाहै।

येहोगीसरकारकेलिए चुनौती

सरकारकेलिएराजकोषीयअनुशासनकीउपलब्धिकोकायमरखनाचुनौतीहैजिसकेदमपरपिछलेदिनोंहीरेटिंगएजेंसीने14वर्षोकेअंतरालपरदेशकीरेटिंगमेंसुधारकियाहैक्योंकिइसकासीधाअसरनिवेशकोंपरपड़नातयहै।वित्तमंत्रीकोकृषिक्षेत्रकीचुनौतियोंकासामनाभीकरनापड़ेगा,उद्योगोंकोलुभानेकीभीजुगतकरनीहोगी,रोजगारपैदाकरनेकेअवसरतलाशनेहोंगे,करदाताओंकोराहतभीदेनीहोगी,बुनियादीढांचाकाजालभीबुननाहोगा,स्वास्थ्य,शिक्षा,आवासजैसीमूलभूतसुविधाओंकाविस्तारकरनेकेदबावकासामनाभीकरनाहोगाऔरयहसबकरतेहुएराजकोषीयअनुशासनकोभीसाधनाहोगा।हलवावितरणसमारोहकेसाथबजटतैयारकरनेकीप्रक्रियाअंतिमचरणमेंपहुंचचुकीहै,उम्मीदहैकिआनेवालेबजटमेंसभीकेलिएकुछनकुछजरूरअच्छाहोगा।

(लेखकबिजनेसपत्रकारहैं)