आर्थिक मंदी पर मोदी सरकार पर जमकर बरसे एलजेडी नेता शरद यादव

लखनऊ,जेएनएन।लोकतांत्रिकजनतादलकेनेताशरदयादवनेउत्तरप्रदेशमेंविपक्षकोएकजुटकरनेकाबीड़ाउठायाहै।पूर्वकेंद्रीयमंत्रीऔरजनतादलयूनाइटेडकेसंस्थापकोंमेंसेएकशरदयादवआजलखनऊमेंथे।प्रेसक्लबमेंआजशरदयादवनेमीडियाकोसंबोधितकिया।

उत्तरप्रदेशमें2022केविधानसभाचुनावमेंअपनीपार्टीकीसंभावनातलाशनेकेमकसदसेशरदपवारनेलखनऊमेंआजकईनेताओंसेभेंटभीकी।इसकेबादउन्होंनेमीडियाकोसंबोधितकिया।पूर्वकेंद्रीयमंत्रीशरदयादवनेआर्थिकमंदीपरनरेंद्रमोदीसरकारकोकठघरेमेंखड़ाकिया।

शरदयादवनेदेशकीकमजोरहोतीअर्थव्यवस्थापरचिन्ताजतातेहुएकेन्द्रसरकारसेअपीलकीहैकिवास्तविकसहीस्थितिजनताकेसामनेलाईजाए।शरदयादवनेकहाकिआर्थिकतौरपरदेशबहुतविकटपरिस्थितिमेंहै।नोटबंदीऔरजीएसटीकेचलतेहैंआजपूरेदेशकाव्यापारठपपड़ाहै।इसकेबादभीमोदीसरकारदेशकीजनताकोझूठेसपनेदिखानेमेंलगीहै।इनकोदेशकोहकीकतबतानीहीहोगी।नोटबंदीकेबादरियलस्टेटकपड़ेकाकारोबारबड़ेपैमानेपरप्रभावितहुआहै।आर्थिकमामलेमेंतोबांग्लादेशभीआजहमसेआगेहोगयाहै।मंदीकेकारणऑटोमोबाइलसेक्टरपरभीबुरीतरहसेअसरपड़ाहै।देशके40फीसदीकारखानेबंदहोगएहैं।लोगोंकोनौकरियोंसेनिकालाजारहाहै।लखनऊमेंभीकईशोरूमबंदहोरहेहैं।भारतसेनिर्यातहोनेवालीचीजेंनहींजारहीहैं।तीनकरोड़लोगोंकारोजगारछिनचुकाहै।पहलेअर्थव्यवस्थामेंहमारादेशपांचनंबरपरथाअबछहनंबरपरआगयाहै।

शरदयादवनेकहाकिउत्तरप्रदेशकाभीहालबुराहै।यहांपरपहलेमॉबलिचिंगऔरअबबच्चाचोरीकेनामपरलोगमारेजारहेहैं।उन्होंनेकहाकियूपीकीहालतआजकश्मीरसेभीबदतरहै।पहलेयहांगोहत्याकेनामपरमाबलिचिंगहोरहीथीऔरअबबच्चाचोरीकेनामपरलोगमारेजारहेहैं।यूपीमेंहत्याएंऔरएनकाउंटरबढ़रहेहैं।

बिहारकेमधेपुराकेचारबारसांसदतथाएकबारराज्यसभासदस्यरहेशरदयादवनेबिहारकेसीएमनीतीशकुमारकासाथछोड़करलोकतांत्रिकजनतादलकागठनकियाहै।शरदनेकहाकिकश्मीरकेराज्यपालनेखुदराहुलगांधीकोआमंत्रितकियाथामगरविपक्षकेनेताओंकोवहांजानेहीनहींदियागया।हमलोगवहांजातेतोसरकारकीमददहीकरते।शरदयादवनेकहाकिजम्मू-कश्मीरमेंअनुच्छेद370खत्मकरनेकालाभमुझेतोनहींदिखरहाहै।नरेंद्रमोदीसरकारकायहफैसलासमझसेपरेहै।यहतोदेशकीसुरक्षाकेसाथबड़ाखिलवाड़है।इसकेकारणहीपड़ोसीहीहमारेदुश्मनहोगएहैं।यहदेशबहुतकुर्बानियोंकेबादहमारेहाथलगाहै।भाजपातोलड़ाई-झगड़ेकराओऔरजीतोकीराजनीतिकरतीहै।वहइसमेंसफलभीहोरहीहै।जनताकोआजनहीं,कुछदिनबादपताचलेगा।इसदेशकीमीडियाकेलिएभीकाफीदिक्कतपैदाहोगईहै।मीडियाअपोजीशनकीआलोचनाकररहीहै।अपोजिशनकेहाथमेंजबकिकुछभीनहींहै।