आश्वासन की टूटती आस, आस्था हुई निराश

जासं,सोरों:सिर्फआश्वासनसेहीआसदिलाईजातीरही।इसबारभीप्रदेशकेअन्यधार्मिकनगरोंकोतोतीर्थस्थलघोषितकरदियापरतुलसीनगरीफिरउपेक्षितरहगई।आखिरभगवानवराहकीअवतरणस्थलीक्योंउपेक्षाकीशिकारबनीहुईहै।अबतकतोसिर्फपुरोहितहीयहसवालउठारहेथेलेकिनअबतोश्रद्धालुभीशासनकीबेरूखीपरनिराशहोरहेहै।

उत्तरभारतकीप्रसिद्धतीर्थनगरीसोरोंबदहालीकेदर्दसेकराहरहीहै।यहांपर्यटनस्थलघोषितकरनेकीमांगलंबेसमयसेप्रस्तावोंमेंहीअटककररहगईहै।सरकारनेपहलेबरसाना,वृंदावनतीर्थस्थलघोषितकिएतबभीअपनीउपेक्षापरतीर्थनगरीरोईऔरअबगोवर्धन,गोकुलऔरनंदगांवभीतीर्थस्थलघोषितकरदिएगएहै,तबभीउपेक्षासेपीड़ितहै।यहांबतादेंकिसोरोंकापौराणिकइतिहासवराहपुराणमेंपदमपुराण,वायुपुराण,स्कंदपुराण,गर्गसंहिताआदिमेंमिलताहै।यहक्षेत्रभगवानवराहकाक्षेत्रहै।भगवानविष्णुनेपृथ्वीकासूकरकेरूपमेंअवतारलेकरहिरणयाक्षराक्षसकावधकिया।इसकेउपरातमार्गशीर्षमासकीद्वादशीकोइसीस्थानपरनिर्वाणप्राप्तकिया।तभीसेयहगंगाकातटवर्तीक्षेत्रसूकरक्षेत्रनामसेप्रसिद्धहुआ।भगवानविष्णुकेप्राकट्यकाआदिस्थलहोनेकेकारणइसेआदिवराहक्षेत्रभीमानागयाहै।वराहपुराणमेंभगवानवराहकेअवतरणकेसंबंधमेंश्लोककाउल्लेखमिलताहै।सूकरक्षेत्रकीप्राकट्यभूमिकीपरिधि5योजनअर्थात52किमी.तकबताईगईहै।वहींतीर्थनगरीमेंहरिपदीगंगाकेसंबंधमेंयहसत्यहैकिइसकुंडमेंविसर्जितकीजानेवालीअस्थियास्वत:हीजलरूपलेलेतींहैं।वराहपुराणमेंइसकाभीउल्लेखकियागयाहै।कांग्रेससरकारमेंवर्ष2012मेंसोरोंआईमौजूदाकेंद्रीयमंत्रीउमाभारतीहरपदीगंगापरयहसंकल्पबोलकरगईथींकिजबवहसत्तामेंहोंगीतोतुलसीनगरीकोतीर्थस्थलघोषितकराएंगी।निकायचुनावहुआतोभाजपाकेप्रदेशअध्यक्षमहेंद्रनाथपांडेयनेसोरोंमेंजनसभाकेदौरानघोषणाकीथीकिनिकायचुनावमेंयहांभाजपाप्रत्याशीकोजिताओतोसोरोंकोतीर्थस्थलघोषितकराएंगे।लेकिनयहसबहवा-हवाईरहा।

वाशिंदेंकीबात-

सोरोंसूकरक्षेत्रअत्यंतप्राचीनतीर्थस्थलहै।यहाभगवानवराहमेंसतयुगमेंअवतारलियाथा,लेकिनयहतीर्थस्थलपूरीतरहसेउपेक्षितहै।इससेइसक्षेत्रकेलोगउपेक्षितमहसूसकरतेहैं।--सतीशभारद्वाज

पालिकाकररहीहैप्रयास

नगरपालिकाबोर्डकीबैठकमेंप्रस्तावपारितहोचुकाहै।पार्टीकेनेताओंसेचर्चाकीजारहीहै।शासनस्तरतकअपनीबातदमदारीसेरखनेकाप्रयासकियाजारहाहै।

--मुन्नीदेवी,पालिकाध्यक्षसोरों