अब जांच रिपोर्ट के लिए मरीजों को नहीं पड़ेगा भटकना

गोंडा:अगरकिसीमरीजकोझटकाआरहाहै,डॉक्टरोंकोशंकाहैकिउसेजापानीबुखारहै।ऐसेमरीजकासैंपललेकरउसेजांचकेलिएलखनऊभेजाजाताहै।वहांसेरिपोर्टआनेकेबादमरीजकाइलाजशुरूहोताहै।यहरिपोर्टआनेमेंकमसेकमचारदिनलगजाताहै।जिसकीवजहसेमरीजोंकोपरेशानीहोतीथी।ऐसेमेंअबमरीजोंकोराहतदेनेकेलिएएकनईव्यवस्थाशुरूकीजारहीहै।जिसकेतहतक्षेत्रीयनिदानकेंद्रमेंअलगसेएलाइजाजांचकीलैबस्थापितकीजारहीहै।

माइक्रोबायोलाजिस्टअनिलकुमारवर्माकाकहनाहैकिइसव्यवस्थासेइंसेफ्लाइटिस,डेंगू,मलेरियावअन्यबीमारियोंकेमरीजोंकेसैंपलकीजांचकीजासकेगी।उन्हेंकुछेकघंटेमेंरिपोर्टदेदियाजाएगा,जिससेयहस्पष्टहोजाएगाकिवहबीमारीसेग्रसितहैयानहीं।इसकेआधारपरइनमरीजोंकोत्वरितइलाजकीसुविधामिलसकेगी।सीएमएसडॉॅ.वीरपालकाकहनाहैकिइसेअतिशीघ्रशुरूकरनेकाप्रयासकियाजारहाहै।

-जिलाअस्पतालमेंमरीजोंकीपरेशानीकोदूरकरनेकेलिएअबहरवार्डमेंअलगसेविभागाध्यक्षनियुक्तकरनेकीतैयारीकीजारहीहै।विभागीयअधिकारियोंकाकहनाहैकिहरविभागकेवरिष्ठचिकित्सककोइसकाप्रभारीबनायाजाएगा।जिससेउसकाउत्तरदायित्वतयकियाजासके।फिलहाल,अपरनिदेशकस्वास्थ्यडॉ.रतनकुमारकाकहनाहैकिइससेकाफीसुधारआएगा।