'अपेक्षित' को पढ़ दिया था 'उपेक्षित'; तत्कालीन राज्यपाल रामनाथ कोविंद ने टोका, फिर से पढ़वाया

भारतकेराष्ट्रपतिरामनाथकोविंद20अक्टूबरकोपटनाआरहेहैं।मौकाहैबिहारविधानसभाभवनके100सालपूराहोनेका।ऐसेमेंबिहारमेंउनकेबतौरराज्यपालकार्यकालकीएकरोचकघटनायादआरहीहै।2015कीबातहै।लालूप्रसादकेबड़ेबेटेतेजप्रतापयादवपहलीबारशपथलेरहेथे।उन्होंने'अपेक्षित'को'उपेक्षित'पढ़दिया।तत्कालीनराज्यपालरामनाथकोविंदध्यानसेउच्चारणसुनरहेथे।उन्होंनेतेजप्रतापकोटोकदियाऔरदोबाराशपथशुरूसेपढ़वायाथा।

तीसरेनंबरपरशपथलेरहेथेतेजप्रतापयादव

2015मेंतेजप्रतापयादवनेपहलीबारविधायकबनतेहीमंत्रीपदकीशपथलीथी।तेजस्वीयादवनेतोशब्दोंकाठीक-ठाकउच्चारणकरतेहुएशपथलेली।अबबारीतेजप्रतापयादवकीथी।वेतीसरेनंबरपरशपथलेरहेथे।यानीनीतीशकुमारसबसेपहले,उसकेबादतेजस्वीयादवफिरतेजप्रतापयादव।तेजप्रतापयादवनेशपथलेनाशुरूकिया,उन्होंने'अपेक्षित'शब्दको'उपेक्षित'पढ़दिया।अपेक्षितकामतलबजहांउम्मीदसेहै,वहींउपेक्षितकामतलबकिसीऐसीबातयाचीजसेहैजिसकीअनदेखीहो।यानीउम्मीदकीजगहअनदेखीपढ़दिया।

तेजप्रतापकोमंचपरहीटोकदियाथा

रामनाथकोविंदध्यानसेसभीशपथलेनेवालोंकेशब्दोंकेउच्चारणसुनरहेथे।उन्होंनेतुरंतमंचपरहीतेजप्रतापयादवकोटोकदिया।अपेक्षितकोठीकसेपढ़नेकोकहा।तेजप्रतापजबठीकसेपढ़नेलगेतोरामनाथकोविंदनेकहाकिपूराफिरसेपढ़िए।इसकेबादतेजप्रतापयादवकोफिरसेशपथलेनीपड़ी।अगलीबारतेजप्रतापयादवअपेक्षितकोठीकसेपढ़गए।उसदिनयहीखबरशपथग्रहणसमारोहकीबड़ीखबरबनगई।

अपनीपार्टीमेंउपेक्षितमहसूसकररहेहैंतेजप्रताप

इनदिनोंतेजप्रतापयादवअपनीहीपार्टीराजदमेंउपेक्षितमहसूसकररहेहैं।वेनेताप्रतिपक्षतेजस्वीयादवकीतरहहीसम्मानचाहतेहैं।नमिलनेपरविद्रोहीतेवरमेंहैं।राजदमेंउपेक्षाकेबादउन्होंनेनयासंगठनछात्रजनशक्तिपरिषदबनालियाहै।उन्हेंअपेक्षाहैकिनएसंगठनकेजरिएराजनीतिकीनईजमीनतैयारकरनेमेंसफलहोंगे।