भारत में 15 से 24 साल के बच्चों में सात में से एक बच्चा उदास महसूस करता है : यूनिसेफ रिपोर्ट

नयीदिल्ली,पांचअक्टूबर(भाषा)यूनिसेफकीएकनयीरिपोर्टमेंकहागयाहैकिभारतमें15से24सालकेबच्चोंमेंसातमेंसेएकबच्चाअक्सरउदासमहसूसकरताहैयाकामकरनेमेंदिलचस्पीनहींलेता।रिपोर्टमेंआगाहकियागयाहैकिकोविडमहामारीवर्षोंतकबच्चोंऔरयुवाओंकेमानसिकस्वास्थ्यऔरकल्याणकोप्रभावितकरसकतीहै।यूनिसेफऔरगैलपद्वारा2021कीशुरुआतमें21देशोंमें20,000बच्चोंऔरवयस्कोंपरकिएगएएकसर्वेक्षणमेंपायागयाकिभारतमेंयुवामानसिकतनावकेदौरानकिसीकासमर्थनलेनेसेबचतेहैं।'स्टेटऑफदवर्ल्ड्सचिल्ड्रन2021'रिपोर्टमेंकहागयाहै,''भारतमें15से24सालकेबच्चोंमेंकेवल41प्रतिशतनेकहाकिमानसिकस्वास्थ्यसमस्याओंकेलिएमददलेनाअच्छाहै,जबकि21देशोंमेंयहऔसतन83प्रतिशतहै।''भारतउन21देशोंमेंसेएकहैजहांबहुतकमयुवाओंकोलगताहैकिमानसिकस्वास्थ्यसंबंधीसमस्याओंकासामनाकरनेवालेलोगोंकोदूसरोंकीमददलेनीचाहिए।रिपोर्टकेअनुसार21वींसदीमेंबच्चों,किशोरोंऔरदेखभालकरनेवालोंकेमानसिकस्वास्थ्यपरएकनजरडालनेवालेयूनिसेफनेकहाकिकोविड-19महामारीकाबच्चोंकेमानसिकस्वास्थ्यपरकाफीप्रभावपड़ाहै।सर्वेक्षणमेंयहभीपायागयाकिभारतमें15से24सालकेबच्चोंमेंसातमेंसेएकअक्सरउदासमहसूसकरताहैयाकामकरनेमेंउसकीकोईदिलचस्पीनहींहै।