भभुआ जिले के इस स्‍वास्‍थ्‍य उपकेंद्र में बांधे जाते हैं मवेशी, कभी नहीं आते चिकित्‍सक या कर्मचारी

जेएनएन,भभुआ। चैनपुरप्रखंडक्षेत्रकेकईगांवआजभीमूलभूतसुविधाओं(BasicFacilities)सेवंचितहैं।प्रखंडक्षेत्रकेलोगोंकोस्वास्थ्यसमेतअन्‍यसुविधाओंकीदरकारहै।इसकारणग्रामीणउपेक्षितमहसूसकररहेहैं।उनकाकहनाहैकिहमलोगोंकोलगताहीनहींकिआधुनिकभारतकेहमवासीहैं।

स्‍वास्‍थ्‍यउपकेंद्रभवन(HealthSubCenter)मेंबांधेजातेहैंमवेशी

करजीके ग्रामीणमोनूशर्मा,श्रीरामशर्मा,महेशकुमारवर्मा,गोपालदासगौड़,शिवानंदएवंपूर्वमुखियापंडूलउपाध्याय,पैक्सअध्यक्षदीनबंधुउपाध्यायआदिनेबतायाकिदस वर्षपूर्वगांवमेंस्वास्थ्यउपकेंद्रकेलिएभवनकानिर्माणकरायागयाथा।पहलीबरसातमेंहीभवनसेपानीटपकनेलगा।इसकेबादउसकेंद्रमेंकभीभीकोईभीचिकित्सकनहींआए।इससे स्थानीयग्रामीणोंकोचिकित्साकीसुविधास्थानीयस्तरपरप्राप्तनहींहुई।धीरेधीरेउक्तभवनखंडहरमेंतब्दीलहोगया।वर्तमानसमयमेंग्रामीणउसकाउपयोगभैंसबांधनेएवंगोबरपाथनेमेंकरतेहैं।

निजीसाधनोंसेपटवनकोमजबूरहैकिसान-सिंचाईकीव्यवस्थाकेनामपरनहरतोहैलेकिनउसमेंपानीनहींहै।किसानपूरीफसलडीजलपंपकेसहारेउपजातेहैं।इसकारणउनकाखर्चअधिकहोजाताहै।

शिक्षाकीव्यवस्थाकेनामपरचैनपुरप्रखंडमेंएकभीउच्चस्तरीयशिक्षणसंस्थाननहींहैजहांप्रखंडक्षेत्रकेबच्चेउच्चशिक्षाप्राप्तकरसकें।यहांतककीग्रामकरजीमेंमुख्यसड़ककेकिनारेनालेकानिर्माणनाहोनेकेकारणघरोंसेनिकलनेवालागंदापानीमुख्यसड़कोंपरहीलगारहताहै।मच्छरोंकाप्रकोपबढ़जाताहै।जलजमावकीसमस्यासेमच्छरोंकेबढ़नेकादंशभीग्रामीणोंकोझेलनापड़रहाहै। इनसमस्याओंपर प्रशासन द्वाराध्याननहींदियाजाताहै। खेलकामैदाननहींहोनेकेकारणबच्चोंकीप्रतिभाकुंठितहोरहीहैजबकिखेलकेमैदानकानिर्माणकरवानेकेलिएप्रखंडक्षेत्रमेंकईऐसीभूमिहै, जहांखेलकामैदानबनवायाजासकताहै।