बिहार सरकार के मंत्री संजय झा ने गिनाईं स्‍वास्‍थ्‍य सेवा की उपलब्धियां, 15 साल पहले का हाल भी बताया

पटना,राज्यब्यूरो।नीतिआयोगकीएकरिपोर्टमेंबिहारमेंस्वास्थ्यसेवाओंकीस्थितिकोलेकरकीगयीकड़वीटिप्पणीकेबादराजनीतितेजहोगईहै।बिहारविधानसभामेंनेताप्रतिपक्षतेजस्‍वीयादवसहितपूराविपक्षइसमसलेकोलेकरसरकारपरहमलावरहै।वहींजलसंसाधनमंत्रीसंजयझानेकिसीकाजिक्रकिएबगैरशनिवारकोयहट्वीटकियाकिसुविधाओंमेंनिरंतरवृद्धिसेसरकारीअस्पतालोंपरबिहारमेंमरीजोंकाभरोसाबढ़ाहै।वर्ष2019कायहआंकड़ाहैकियहांहरमाहइलाजकेलिएसरकारीअस्पतालपहुंचनेवालोंकीऔसतनसंख्या9,517होगयीहै।एकसमय2005-06कीस्थितियहथीकिहरमाहऔसतन39मरीजहीइलाजकेलिएसरकारीअस्पतालपहुंचतेथे।तबउन्हेंरूईऔरसुईतकबाहरसेखरीदनापड़ताथा।

झानेकहाकियहखुशीकीबातहैकिपंजाबविधानसभाचुनावकेमद्देनजरआमआदमीपार्टीकेनेतास्वास्थ्यकेंद्रोंपरमुफ्तदवाऔरजांचकाजोवादाकररहेउसेबिहारमेंनीतीशकुमारकेनेतृत्ववालीसरकारद्वारा2006सेहीउपलब्धकरायाजारहाहै।राज्यकेसरकारीमेडिकलकालेजोंमेंभर्तीमरीजोंको113सेअधिकजबकिओपीडीकेमरीजोंको76सेअधिकप्रकारकीदवाएंमुफ्तमिलरहीहै।प्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रसेजिलाअस्पतालतकमुफ्तमिलनेवालीदवाओंऔरजांचकीसूचीनिर्धारितहै।

संजयनेकहाकिकोरोनामहामारीसेजानगंवानेवालोंकेपरिजनोंकेलिएसबसेपहलेबिहारसरकारनेचारलाखरुपएकेमुआवजेकाएलानकिया।बादमेंदबावपड़नेपरदिल्लीसरकारनेमात्र50हजाररुपएमुआवजादिएजानेकीघोषणाकी।कुछअन्यराज्यसरकारोंनेभीइतनीहीराशिकाएलानकिया।स्वास्थ्यसेवाओंकोतकनीकीमाध्यमसेजोडऩेकीदिशामेंअबबिहारकेपीएचसी,सीएचसीतथाअनुमंडलएवंजिलाअस्पतालोंकोटेलीमेडिसीनसेजोड़दियागयाहै।