डॉक्टर की मर्जी से चलता है पीएचसी

संवादसूत्र,टेढागाछ(किशनगंज):टेढागाछप्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रडाक्टरकीमर्जीसेचलताहै।कितनेभीगंभीरमरीजक्योंनपहुंचजाएडाक्टरजबचाहेंगेतबहीइलाजहोगा।स्वास्थ्यकेंद्रकीइसहालतकेकारणमरीजोंकोकाफीकठिनाइयोंकासामनाकरनापड़ताहै।शनिवारकोइलाजकरानेपीएचसीआएकईमरीजइलाजकेलिएडाक्टरकेइंतजारमेंथे।लेकिनइनकीसुधिलेनेवालाकोईनहींथा।बेतबरीहवकोलसेआयेमरीजझलुआऋषिदेवपिताअनूपऋषिदेवअस्पतालकेबाहरकड़ीधूपमेंतड़पतेनजरआए।इसमरीजकोअस्पतालकेकोईकर्मीवचिकित्सकदेखनामुनासिबनहींसमझे।वहींकईमहिलाप्रसवकरानेआईलेकिननर्सवडॉक्टरोंकीमनमानीकेकारणमहिलाकोजल्दीभर्तीनहीलियागया।मरीजकेपरिजनकेआक्रोशितहोनेकेबादहीभर्तीलियागया।इलाजकरानेआयेझलुआऋषिदेवबुखारकीवजहसेकांपरहेथेऔरतेजधूपमेंप्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रकेबाहरगमछाबिछाकरसोएहुएथे।जबमरीजोंसेपूछागयातोउन्होंनेबतायाकिकईबारडॉक्टरकेपासगएलेकिनइलाजनहींकियायहकहकरलौटादियागयाकितीनबजेदेखेंगे।इसतरहकानजारायहांहरदिनदेखनेकोमिलजाताहै।