देश को एक योग्य एवं कुशल नेतृत्व प्रदान करने के लिए अपने मताधिकार का प्रयोग

1बीडब्ल्यूएन37जेपीजी

संवादसहयोगी,बवानीखेड़ा:डबवालीसेविधायकनैनाचौटालानेकहाकिवैसेतोहमारेदेशमेंअनेकोंऐसेत्यौहारप्रचलितहैं,जोप्रतिवर्षकिसीदिवसविशेषपरसंबंधितधर्मएवंक्षेत्रकेलोगोंद्वाराधूम-धामसेमनाएजातेहैं।लेकिनहमारेलोकतात्रिकदेशमेंएकऐसाभीमहापर्वहैजोपाचवर्षमेंकेवलएकबारआताहैलेकिनउसेसमाजकेसभीजाति-धर्मएवंक्षेत्रकेलोगएकसमानउत्साहकेसाथमनातेहैं।इसमहापर्वकानामहैलोकसभाचुनाव।एकतरफजहाविभिन्नपर्वएवंत्योहारोंकेअवसरपरहमनए-नएपरिधानधारण

करनेकेसाथहीसाथतरहतरहकेपकवानबनाकरखुशियामनातेहैं,वहींदूसरीओरइसमहापर्वकेअवसरपरहमअपनेतथाअपनेबच्चोंकेअच्छेभविष्यकेलिए,देशएवंप्रदेशकेचहुंमुखीविकासकेलिएतथादेशकोएकयोग्यएवंकुशलनेतृत्वप्रदानकरनेकेलिएअपनेमताधिकारकाप्रयोगकरतेहैं।यहहमारेलिएअत्यंतहर्षकाविषयहैकिलोकतंत्रकायहमहापर्वनजदीकआचुकाहै।इसअवसरपरमैअपनीसभीमाताओंएवंबहनोंसेअनुरोधकरनाचाहूंगीकिवेलोकतंत्रकेइसमहापर्वपरजात-पातएवंधर्म-सम्प्रदायसेउपरउठकरक्षेत्रकेचहुंमुखीविकासऔरक्षेत्रवासियोंकीउन्नतिकेलिएमतदानकरें।पिछलेपाचवषरेंकेदौरानदुष्यंतनेसंसदमेजितनीउपस्थितदर्जकरवायीतथाअपनेक्षेत्रमेंजितनेज्यादासमयतकमौजूदरहा।