धनुष टूटते ही प्रभु राम के जयकारों से गूंज उठा पंडाल

महराजगंज:सदरब्लाककेअमरूतियाखासमेंआयोजितरूद्रमहायज्ञकेदौरानरामलीलाकलाकारोंनेसीतास्वयंवरकामंचनकिया।कलामंचनमेंधनुषभंगहोतेहीपंडालजयश्रीरामकेजयकारोंसेगूंजउठा।जयमालपरदेवताओंनेपुष्पबरसाएऔरमंगलगीतगानेकेलिएदर्शकोंनेभीसुरमिलाहीलिया।मंचनमेंखुशीकामाहौलउसवक्तभयभीतहोउठाजबधनुषभंगकीखबरसुनमौकेपरपरशुरामपहुंचगए।सभीकेरोमकंपितहोउठे,लेकिनदेखतेहीदेखतेभयकोपरशुराम-लक्ष्मणसंवादनेरोमांचमेंबदलदिया।पूरेपंडालमेंबीररसकीगंगाबहगई।बादमेंश्रीरामनेपरशुरामकोअपनेभावोंसेशांतकिया।औरइसतरहसेछठेदिनकेसोपानकोकलाकारोंनेबेहतरीनमंचदियाऔरलोगोंनेआदर्शोंकोआत्मसातकिया।इसकेअलावारविवारकोदिनमेंप्रवचनकर्तापंडितविजयउपाध्यायनेलोगोंकोयज्ञकीमहिमाबतातेहुएकहाकियज्ञसेसभीप्रकारकेपापोंकाविनाशहोताहै।इसअवसरपरओमप्रकाशचौरसिया,शुभकरनयादव,दशरथगुप्ता,अमरीशपटेल,प्रसिद्धपटेल,उमाशंकरपटेल,बसंतचौधरी,महेशउपाध्याय,अर्जूनयादव,ध्यानचंदयादव,जयप्रकाश,वासुदेवयादव,प्रमोदविश्वकर्मा,खुशिहाल,उमेशआदिमौजूदरहे।