धर्मपत्नी ही होती है जीवन की सच्ची सारथी

संवादसूत्र,महेवा:कर्तव्यनिष्ठव्यक्तिकभीनहींथकताहै।जीवनकीसच्चीसारथीधर्मपत्नीहीहोतीहै।यहबातेंजनपदकेमुख्यविकासअधिकारीपीकेश्रीवास्तवनेविकासखंडमुख्यालयमहेवाकेसभागारमेंबीडीओराजारामयादवकेसेवानिवृत्तहोनेपरआयोजितसम्मानसमारोहमेंकहीं।इसमौकेपरपीडीउमाकांतत्रिपाठीनेउसकेकार्यकालकीसराहनाकी।उनकास्वागतफूलमालाओंसेलादकरकियागया।

एडीओपंचायतश्यामबरनराजपूत,विनोदबाबूपोरवाल,बृजेंद्र¨सहधनगर,गजेंद्र¨सहयादव,अनुजगुप्ता,बीरेंद्रपोरवाल,राजकुमार,अनुजयादव,राकेशबाबू,बब्बूराजाआदिदर्जनोंवक्ताओंनेसंबोधितकिया।इसीमौकेपरसेवानिवृत्तहुईएडीओमहिलाबसंतीदेवीतथातकनीकीसहायकअमितपालकीरेलवेमेंनौकरीलगनेपरसम्मानकियागया।इसअवसरपरमहेवापुलिसचौकीप्रभारीरमाशंकरउपाध्यायअशोकपरिहारएडीओएसकेशिवनाथ¨सहयादव,जेईआरईएसनवीनकुमारप्रधानबृजेशचतुर्वेदी,प्रधानबबलूमंसूरी,मनोजकुमारदोहरेआदिरहे।