दिल्‍ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर अब सुरक्षा जांच में लगेगा कम समय

दिल्लीहवाईअड्डेपरसुरक्षाजांचमेंअबकमसमयलगेगा.हवाईअड्डेपरएकनयीप्रौद्योगिकीकाउपयोगकियाजारहाहैजिससेयात्रीसामानकेएक्सरे-स्कैनकेलियेउपयोगहोनेवाले‘ट्रे’खुदसेवापसआजाएंगे.दिल्लीहवाईअड्डाकापरिचालनकरनेवालीकंपनीदिल्लीइंटरनेशनलएयरपोर्टलि.नेस्वचालितट्रेवापसीप्रणाली(एटीआरएस)तीनमहीनेतकपरीक्षणकरनेकेबादअबइसेटर्मिनल3(टी-3)परशुरूकरदियाहै.

इंदिरागांधीअंतरराष्ट्रीयहवाईअड्डाटर्मिनलतीनसेअंतरराष्‍ट्रीयएवंघरेलूउड़ानोंकापरिचालनहोताहै.नईप्रणालीमेंकईअन्यसुविधाएंभीहैंजिसमेंरेडियोफ्रीक्वेंसी(आरएफआईडी)केजरियेट्रेपरनजर,स्वचालिततरीकेसेउसेमंजूरीऔरखारिजकरनाशामिलहैं.

हवाईअड्डाकेएकअधिकारीकेअनुसारएटीआरएसदोगुनीसंख्यामेंयात्रियोंकोसेवादेनेमेंसक्षमहै.अभी180यात्रीप्रतिघंटेसेवादीजासकतीहैलेकिनइसकेजरियेयहसंख्याबढ़कर350यात्रीप्रतिघंटाहोजाएगी.डीआईएएल(दिल्लीइंटरनेशनलएयरपोर्टलि.)केमुख्यकार्यपालकअधिकारीआईप्रभाकररावनेकहा,‘इसप्रणालीसेयात्रियोंकोसामानकीजांचमेंलगनेवालेसमयमेंउल्लेखनीयकमीआएगी.साथहीसुरक्षाजांचक्षेत्रमेंअफरा-तफरीतथाभ्रमकीस्थितिनहींहोगी.’