दिल्ली सरकार कोरोना वायरस की जांच में और तेजी लाएगी: केजरीवाल

नयीदिल्ली,छहअप्रैल(भाषा)दिल्लीकेमुख्यमंत्रीअरविंदकेजरीवालनेसोमवारकोकहाकिदिल्लीसरकारनेकोरोनावायरसकेलिएबड़ेपैमानेपरजांचकरनेकानिर्णयकियाहैताकिइससेसंक्रमितव्यक्तियोंकीपहचानकरकेउन्हेंजल्दसेजल्दपृथककियाजासके।मुख्यमंत्रीनेकहाकिपिछलेकुछदिनोंमेंदिल्लीमेंकोरोनावायरसकेमामलेअचानकबढ़गएहैंऔरइसकेपीछेकेकारणोंमेंसेएकनिजामुद्दीनमेंतबलीगीजमातकार्यक्रमहै।जांचमेंबढ़ोतरीसेराष्ट्रीयराजधानीमेंइसघातकबीमारीकानियंत्रणसुनिश्चितहोगा।केजरीवालनेडिजिटलसंवाददातासम्मेलनकोसंबोधितकरतेहुएकहाकिदिल्लीसरकारनेएकलाखपरीक्षणकिटकेआर्डरदिएथेऔरशुक्रवारतकइनकीखरीदहोनेकीउम्मीदहै।मुख्यमंत्रीनेकहाकिराष्ट्रीयराजधानीमेंकोरोनावायरसकेकुलमामलोंकीसंख्याबढ़कर523होगईहैजिनमेंसे330मामलेनिजामुद्दीनमरकजकेहैं।केजरीवालनेकहाकिरविवारशामसेइसबीमारीसेएकव्यक्तिकीमौतहुईजिससेमृतकसंख्याबढ़कर10होगईजबकि20नयेमामलेसामनेआयेहैंजिसमेंसे10मरकजसेहैं।उन्होंनेकहा,‘‘25मार्चकेआसपासहमारीक्षमताप्रतिदिन100-125लोगोंकीजांचकरनेकीथीजोकिएकअप्रैलकेबादप्रतिदिन500तकबढ़गई।अबहमप्रतिदिनलगभग1,000जांचकीक्षमतातकपहुंचरहेहैं।"उन्होंनेकहाकिसरकारजांचकिटहासिलकररहीहैऔरवायरसकेलिएजांचकीसंख्याबढ़गईहै।उन्होंनेकहाकिकोरोनावायरसके25रोगीवर्तमानमेंआईसीयूमेंहैंऔरआठवेंटिलेटरपरहैंजबकिशेषकीहालतस्थिरहै।मुख्यमंत्रीनेकहाकिकेंद्रनेदिल्लीकेलिए27हजारपीपीईकिटआवंटितकिएहैंऔरइसकेलिएवहकेंद्रकेआभारीहैं।उन्होंनेकहाकिजिनलोगोंनेराशनकार्डकेलिएऑनलाइनआवेदनकियाहै,वेमंगलवारसे421स्कूलोंसेअपनेराशनप्राप्तकरसकतेहैं।मुख्यमंत्रीनेकहाकिरविवारकोसरकारनेशहरकेलगभग6.9लाखलोगोंकोदोपहरकाभोजनऔरलगभग6.94लाखलोगोंकोरात्रिभोजनउपलब्धकराया।उन्होंनेकहा,"मैंआपकोआश्वस्तकरनाचाहताहूंकिहमदिल्लीमेंकिसीकोभीभूखसेपीड़ितनहींहोनेदेंगे।मैंउनलोगों,गैरसरकारीसंगठनोंऔरनागरिकसंगठनोंकोधन्यवाददेनाचाहताहूं,जोअपनीक्षमताकेअनुसारविभिन्नक्षेत्रोंमेंभोजनकेपैकेटवितरितकररहेहैं।"उन्होंनेकहा,‘‘हमलगभग71लाखराशनकार्डधारकोंकोप्रतिव्यक्ति7.5किलोग्रामराशनमुफ्तमेंप्रदानकररहेहैं।मंगलवारसेहमउन10लाखगरीबोंकोराशनदेनाशुरूकरदेंगे,जिनकेपासराशनकार्डनहींहैं।उनमेंसेप्रत्येककोपांचकिलोग्रामराशनउपलब्धकरायाजाएगा।"उन्होंनेकहाकिजिनकेपासराशनकार्डनहींहैंउन्हेंराशन421स्कूलोंसेवितरितकियेजाएंगे।मुख्यमंत्रीनेकहा,"भीड़सेबचाजानाचाहिएअन्यथालॉकडाउनकेउद्देश्यकीपूर्तिनहींहोपाएगी।राशनवितरणकेदौरानलोगोंकेबीचदूरीसुनिश्चितकरनासांसदों,विधायकोंऔरपार्षदोंकीजिम्मेदारीहै।"