ई-संजीवनी ओपीडी एप के माध्यम से 24 घंटे उपलब्ध रहेंगे चिकित्सक

जागरणसंवाददाता,रेवाड़ी:उपायुक्तयशेंद्रसिंहनेकहाकिजिलेकेलोगोंकेस्वास्थ्यसुधारमेंप्रशासनिकरूपसेसक्रियभागीदारीनिभाईजारहीहै।आमजनकोस्वास्थ्यसुरक्षाकासंदेशदेनेकेलिएस्वास्थ्यविभागकेअधिकारियोंकेसाथआमजनकोस्वास्थ्यकेप्रतिसजगरहनेकेलिएप्रेरितकररहेहैं।आमजनकोडेंगू,मलेरियावकोरोनारोधीटीकाकरणकेलिएजागरूककियाजारहाहै।

उन्होंनेकहाकिस्वास्थ्यसुरक्षाकेमद्देनजरजिलेमेंसरकारकीओरसेई-संजीवनीओपीडीसेवाभीचलरहीहै।स्वास्थ्यसुरक्षाकेतहतशुरूहुईयहओपीडीसेवाजरूरतमंदलोगोंकेलिएलाभकारीहै।

उपायुक्तनेकहाकिसरकारकीओरसेजनसेवाकेरूपमेंबीमारियोंकोफैलनेसेरोकनेकेउद्देश्यसेजागरूकताभीबचावकाअहमकदमहै।ऐसेमेंलोगोंकोडेंगू,मलेरियारोगसेबचावकेसाथहीकोरोनासेबचावकेलिएटीकाकरणरूपीसुरक्षाकवचधारणकरनेकेलिएसजगकियाजारहाहै।ई-संजीवनीओपीडीसेवाकेमाध्यमसेमरीजघरबैठेहीमोबाइलएपकेमाध्यमसेसंबंधितचिकित्सकसेअपनेरोगसेसंबंधितपरामर्शलेसकताहै।उन्होंनेबतायाकिईसंजीवनीओपीडीनिर्धारितशेड्यूलअनुसार24घंटेलोगोंकेलिएउपलब्धहै।उन्होंनेकहाकिई-संजीवनीकेलिएसुबह,शामवरात्रितीनशिफ्टमेंचिकित्सकोंकीटीमकीड्यूटीलगाईगईहै।उन्होंनेकहाकिइसओपीडीकोशुरूकरनेकाउद्देश्यअस्पतालोंमेंमरीजोंकीसंख्याकोकमकरनाहै।अस्पतालमेंमरीजतभीआएंजबजरूरीहोअन्यथाई-संजीवनीकीओपीडीकेमाध्यमसेअपनाउपचारकराएं।उपायुक्तनेबतायाकिई-संजीवनीओपीडीभारतसरकारकाप्रमुखटेलीमेडिसिनमंचहैजिसेभारतसरकारकेतत्वावधानमेंविकसितकियागयाहै।यहमंचकिसीभीभारतीयनागरिककोमुफ्तपरामर्शप्रदानकरताहै।

ऐसेउठाएंईसंजीवनीकालाभ:ई-संजीवनीसेदोतरहसेटेली-मेडिसिनकंसल्टेंसीकालाभआमलोगउठासकतेहैं।इसकेलिएसंजीवनीएपकोअपनेमोबाइलपरइंस्टालकरनाहोगा।इसकेबादआपकोरजिस्ट्रेशनकरनाहोगा।एपमेंतीनआप्शनदिखतेहैं।पहलामरीजकारजिस्ट्रेशनऔरटोकनदूसरामरीजकालागइनऔरतीसराप्रिक्रिप्शन।इसतरहचिकित्सकसेजुड़करटेलीपरामर्शलेसकतेहैं।