झलतोला में मिनी झील बनने से पुनर्जीवित हो गए 125 पेयजल स्रोत, लोगों को मिली राहत

पिथौरागढ़,जेएनएन:पेयजलसंकटसेजूझरहेविकासखंडकेझलतोलाक्षेत्रकोमिनीझीलकेनिर्माणसेबड़ीराहतमिलीहै।यहझीलनकेवलस्थानीयलोगोंकीजरूरतपूरीकररहीहै,जंगलीजानवरोंकोभीपानीकेलिएभटकनानहींपड़रहाहै।झीलसेआस-पासकेगांवोंके125प्राकृतिकजलस्रोतपुनर्जीवितहोरहेहैं।

झलतोलाक्षेत्रमेंपेयजलसंकटकासमाधाननिकालनेकेलिएविकासविभागनेमिनीझीलनिर्माणकाखाकाखींचाथा।मनरेगाकेमाध्यमसेस्थानीयलोगोंनेहीइसझीलकानिर्माणकिया।मनरेगासे15.65लाखकीधनराशिखर्चकरनेकेसाथही9.86लाखकीधनराशिजिलाखनिजन्यासनिधिसेभीलगाईगई।जलसंरक्षणकेक्षेत्रमेंकार्यकररहीहिमालयनग्रामविकाससमितिकेअनुभवकाभीइसकेलिएलियागया।

झीलनिर्माणकेसुखदपरिणामसामनेआरहेहैं।झीलकेआस-पासबसेगांवचाक,चैना,सुकना,चैरा,विरौली,बटगलमेंलगभगसूखचुके125प्राकृतिकजलस्रोतोंकोपुनर्जीवनमिलरहाहै।इनस्रोतोंसेफिरपानीनिकलनेलगाहै।हिमालयग्रामविकाससमितिकेराजेंद्रसिंहनेबतायाकिमिनीझीलनिर्माणकेबादभूमिगतवाटरचैनविकसितहोरहीहै।इसक्षेत्रमेंनमीकास्तरभीबढ़ाहै,जिससेखेतीबेहतरहोगी।स्थानीयलोगोंकेखेतोंकेलिएसिंचाईकापानीअबझीलसेउपलब्धहोरहाहै।पालतूजानवरऔरजंगलीजानवरोंकेलिएभीझीलवरदानसाबितहुईहै।नैसर्गिकरूपसेबेहदखूबसूरतझलतोलाक्षेत्रकीयहमिनीझीलभविष्यमेंपर्यटनविकासकाआधारबनेगी।=========झलतोलामेंमिनीझीलनिर्माणकेअच्छेपरिणामसामनेआरहेहै।सबसेबड़ीउपलब्धिक्षेत्रके125जलस्रोतोंकापुनर्जीवनहै।इनस्रोतोंकेपुनर्जीवनसेअबक्षेत्रमेंपेयजलसंकटनहींरहेगा।भविष्यमेंपर्यटनविकासकोभीइससेमददमिलेगी।

-गोपालगिरी,जिलाविकासअधिकारीपिथौरागढ़