किफायती स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं में भारत का अनुभव सभी विकासशील राष्ट्रों के लिए उपलब्ध : मोदी

(योशितासिंह)न्यूयॉर्क,23सितंबर(भाषा)प्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदीनेस्वस्थजीवनपरहरव्यक्तिकेअधिकारपरजोरदेतेहुएसोमवारकोकहाकिकिफायतीस्वास्थ्यदेखभालसेवाएंमुहैयाकरानेमेंभारतकाअनुभवऔरक्षमताएंसभीविकासशीलदेशोंकेइस्तेमालकेलिएउपलब्धहै।‘सार्वभौमस्वास्थ्यदेखभाल’परआयोजितअबतककीपहलीउच्चस्तरीयबैठककोयहांसंबोधितकरतेहुएमोदीनेकहा,‘‘स्वास्थ्यकामतलबकेवलरोगोंसेमुक्तहोनानहींहै।स्वस्थ्यजीवनपरसभीलोगोंकाअधिकारहै।’’उन्होंनेएकबैठकमेंकहा,‘‘यहसुनिश्चितकरनेकेलिएहरसंभवकोशिशकरनेकीजिम्मेदारीहमारीसरकारपरहै।’’सभीकोकिफायती,समावेशीऔरसुगमस्वास्थ्यसुविधाएंउपलब्धकरानेकेलिएनएप्रयासशुरूकरनेकेवास्तेशिखरसम्मेलनकाआयोजनहुआ।मोदीनेकहाकिकिफायतीस्वास्थ्यदेखभालसुविधाओंपरभारतकीकोशिशेंकेवलउसकीसीमाओंतकसीमितनहींहैं।उन्होंनेकहा,‘‘इसदायित्वकेतहत,आयुर्वेद,योगऔरटेलीमेडिसिनकेरास्तेभारतअनेकदेशों,खासकरअफ्रीकीदेशोंकीकिफायतीस्वास्थ्यदेखभालतकपहुंचबढ़ारहाहैऔरहमऐसाकरतेरहेंगे।हमाराअनुभवऔरहमारीक्षमताएंसभीविकासशीलदेशोंकेइस्तेमालकेलिएउपलब्धहैं।’’मोदीनेमहासभासभागारमेंसोमवारकोमहासचिवएंतोनियोगुतारेसद्वाराआयोजितजलवायुपरिवर्तनसम्मेलनकोसंबोधितकरतेहुएसंयुक्तराष्ट्रमहासभाके74वेंसत्रमेंअपनाकार्यक्रमशुरूकिया।मोदीनेकहाकिविश्वकाकल्याण,लोगोंकेकल्याणकेसाथशुरूहोताहैऔरस्वास्थ्यइसकाएकमहत्वपूर्णघटकहै।इसवैश्विकसिद्धांतकेअनुरूपभारतस्वास्थ्यपरबड़ाध्यानदेरहाहै।उन्होंनेकहाकिभारतनेस्वास्थ्यक्षेत्रकीदिशामेंकईतरहकेकदमउठाएहैंऔरइसकेचारप्रमुखस्तम्भों-एहतियातीस्वास्थ्य,किफायतीस्वास्थ्यदेखभाल,आपूर्तिपक्षमेंहस्तक्षेपऔरहस्तक्षेपकोमिशनआधारपरचलाने-परध्यानकेंद्रितकियाजारहाहै।उन्होंनेजोरदेकरकहाकिभारतकेएहतियातीस्वास्थ्यदेखरेखकार्यक्रमकाएकऔरआयाम1,25,000सेअधिकवेलनेससेंटरखोलनेकाहैतथादेशटीकाकरणपरविशेषजोरदियाजारहाहै।मोदीनेकहाकिइनकीमददसेमधुमेह,रक्तचाप,अवसादआदिजैसीजीवनशैलीसेजुड़ीबीमारियोंकोनियंत्रितकियाजासकताहै।ई-सिगरेटकेहानिकारकप्रभावोंपरचिंताजतातेहुएमोदीनेकहा,‘‘ई-सिगरेटकाबढ़ताचलनहमारेलिएचिंताकाविषयहै’’जिसकेचलतेभारतने‘‘युवाओंकोइसगंभीरसमस्यासेबचाने’’केलिएइसउत्पादकोप्रतिबंधितकरदिया।उन्होंनेकहाकिस्वच्छभारतअभियाननेलाखोंलोगोंकीजिंदगियांबचानेमेंयोगदानदियाहैऔरसरकारनेटीकाकरणपरभीखासध्यानदियाहै।मोदीनेकहा,‘‘इसकेअलावा,नएटीकेलानेकेसाथही,हमअपनेटीकाकरणकार्यक्रमकोदूर-दराजकेक्षेत्रोंतकपहुंचानेमेंसफलरहेहैं।’’उन्होंनेकहाकिउनकीसरकारनेविश्वकीसबसेबड़ीस्वास्थ्यबीमायोजना‘आयुष्मानभारत’सहितऐतिहासिककदमउठाएहैंजोसफलतापूर्वकक्रियान्वितकिएजारहेहैं।प्रधानमंत्रीनेकहाकिइसयोजनाकेतहत50करोड़गरीबोंकोहरसालपांचलाखरुपयेतककेनि:शुल्कउपचारकीसुविधादीगईहै।उन्होंनेकहाकिउनकीसरकारनेपांचहजारसेअधिकजनऔषधिकेंद्रभीखोलेहैंजहां800सेअधिकप्रकारकीदवाएंउचितमूल्यपरउपलब्धहैं।उन्होंनेकहाकिभारतकाध्यानगुणवत्तापूर्णचिकित्साशिक्षाउपलब्धकरानेकेलिएआधुनिकसंस्थानोंकीस्थापनापररहाहै।मोदीनेकहाकिमहिलाओंऔरबच्चोंकीस्वास्थ्यदेखभालकेक्रममेंराष्ट्रीयपोषणअभियानऔरअन्यनएकार्यक्रममिशनआधारपरशुरूकिएगएहैं।उन्होंनेकहाकिअगरमांऔरबच्चेस्वस्थहैंतोयहस्वस्थसमाजकीनींवरखेगा।उन्होंनेकहाकिसंयुक्तराष्ट्रनेजहांसततविकासलक्ष्योंकेलिए2030तककीसमयसीमातयकीहै,वहींभारतनेक्षयरोगकेखात्मेकेवास्तेअपनेलिए2025तककीसमयसीमानिर्धारितकीहै।साथहीउन्होंनेकहाकिवायुप्रदूषणऔरपशुओंकेजरिएफैलनेवालीबीमारियोंकेखिलाफभीअभियानशुरूकियागयाहै।मोदीनेअपनेसंबोधनकासमापनसंस्कृतकेश्लोक‘सर्वेभवन्तुसुखिन:सर्वेसंतुनिरामया:’सेकियाजिसकाअर्थहै‘सभीसुखीहों,सभीरोगमुक्तरहें’।