लॉकडाउन में स्वास्थ्य का ख्याल रखना अति आवश्यक : डॉ. राजीव

-सादाभोजनकेसाथमनोरंजनकरसेहतरखेंदुरुस्त

-थोड़ासाव्यायामभीहैजरूरी

डिप्रेशननहींहोनेदेंहावी

जासं,छपरा:लॉकडाउनकेदौरानपूरासमयघरकेअंदरबितानाहैताकिकोरोनामहामारीकेफैलावकोशीघ्ररोकाजासके।ऐसेमेंयहसमयहैकिअपनेघर-परिवारमेंबैठकरसमयबितानेका।भागमभागकीजिदगीमेंपरिवारकेसाथखूबमस्तीकरइंडोरगेमकाआनंदउठाएं।अपनेआपकोस्वस्थ्यरखनेकेलिएशाकाहारीभोजनकरें।तैलीयपदार्थकाप्रयोगनकरें।घरमेंबैठेरहनेसेतैलीयपदार्थशरीरकोकाफीनुकसानपहुंचासकताहै।कोलेस्ट्रॉलआदिकीशिकायतहोसकीहै।इसलिएबिल्कुलसादाभोजनकरें।साथहीभरपेटनहींखाएं।येबातेंशहरकेप्रसिद्धचिकित्सकडॉ.राजीवसिंहनेदैनिकजागरणसेबातचीतकेदौरानबुधवारकोकही।उन्होंनेकहाकिलॉकडाउनकेदौरानघरमेंमनोरंजनकेसाथसेहतकाभीख्यालरखनाअतिआवश्यकहै।इसकेसाथहीडिप्रेशनकोहावीनहींहोनेदें।क्योंकिनौकरीपेशालोगोंकेलिएघरमेंसमयव्यतीतकरनाकाफीमुश्किलहोताहै।पत्नी-बच्चोंकेसाथलूडो,कैरम,व्यापारी,चेसआदिइंडोरगेमकाआनंदउठाएं।बुजुर्गअपनेनातीपोतेकोरोचककहानियांसुनाकरबच्चेसहितअपनाभीमनोरंजनकरसकतेहैं।पूरेदिनघरमेंकैदरहनेकेकारणस्वास्थ्यनहींबिगड़े,इसकाभीख्यालरखनाहै।

रेफरलअस्पतालमें150लोगोकीजांचहुई

संसू,मढ़ौरा:स्थानीयरेफरलअस्पतालमेंचिकित्सकोंनेदूसरेराज्यसेआएकरीब150लोगोंकीजांचकी।स्वास्थ्यप्रबंधकसुशीलकुमारगौतमनेबतायाकिसुबहकरीबआठबजेअस्पतालकेचिकित्सकोंनेदेशकेकोने-कोनेसेलौटेकरीब150लोगोंसेअधिककीस्क्रीनिगकी।लेकिनकिसीप्रकारकीकोईसंदेहास्पदस्थितिनहींपाईगई।उन्हेंघरभेजदियागया।