नोएडा अथॉरिटी के निलंबित चीफ इंजीनियर यादव सिंह को 6 दिन की CBI हिरासत में भेजा गया

नोएडाप्राधिकरणकेनिलंबितचीफइंजीनियरयादवसिंहकोगाजियाबादकीCBIअदालतने6दिनकीहिरासतमेंभेजदियाहै.इससेपहलेCBIनेयादवसिंहकोबुधवारकोपहलेपूछताछकेलिएहिरासतमेंलियाथालेकिनलंबीपूछताछकेबाददेरशामउन्हेंगिरफ्तारकरलियागयाथा.

हफ्तेभरमेंबनालीथीकरोड़ोंकीसंपत्ति

उत्तरप्रदेशकेन्यूओखलाइंडस्ट्रियलडेवलपमेंटअथॉरिटी(नोएडा)केसस्पेंडेडचीफइंजीनियरयादवसिंहआयसेअधिकसंपत्तिकेमामलेमेंसीबीआईनेगिरफ्तारकियाथा.बुधवारकोगाजियाबादसेसीबीआईकीगिरफ्तमेंआएयादवसिंहनेमहज8दिनोंमेंही100करोड़रुपयेकमालिएथे.मेलटुडेकेमुताबिकसीबीआईकेप्रेससूचनाअधिकारीआरकेगौरनेबतायाकियादवसिंहकेखिलाफचलरहेभ्रष्टाचारकेमामलोंकीजांचकेसिलसिलेमेंहीउन्हेंगिरफ्तारकियागयाथा.

कैसेबनाए8दिनोंमेंसौकरोड़

यादवसिंहपरआरोपहैकिउन्होंनेयूपीकेसबसेअमीरविभागनोएडाप्राधिकरणमेंचीफइंजीनियररहतेहुएकईसौकरोड़रुपयेघूसलेकरठेकेदारोंकोटेंडरबांटे.येसारेटेंडरउन्होंनेमहजआठदिनोंमेंबांटदिएथे.नोएडा,ग्रेटरनोएडाऔरयमुनाएक्सप्रेसअथॉरिटीकेचीफइंजीनियररहतेहुएयादवसिंहकीसभीतरहकेटेंडरऔरपैसोंकेआवंटनबड़ीभूमिकाहोतीथी.साल2011केदिसंबरमहीनेकेलगातार8दिनोंमेंहीइनटेंडरकोपासकरनेकेलिएयादवसिंहनेकागजातोंपरदस्तखतकिएथे.जिनकंपनियोंकोटेंडरदिएगएथेउनमेंसेकईनेसाइटपरकामबहुतपहलेहीशुरूकरदिएथेऔरदिसंबरतककरीब60फीसदीकामभीपूराकरदियागयाथा.आरोपहैंकि21.90करोड़रुपयेकाकॉन्ट्रैक्टजेएसपीएलकंस्ट्रक्शनकोदियागयाथा.तिरुपतिकंस्ट्रक्सनको25.50करोड़रुपयेकाटेंडरऔरएनकेजीइंफ्रास्ट्रक्चर्सको34.87करोड़रुपएकाटेंडरबिनायादवसिंहकेदस्तखतकेहीदेदियागयाथा.

यादवसिंहनेहरसरकारकोसाधा

तभीइसबड़ेकारनामेकेबादहीउनपरइनकमटैक्सवालोंकीनजरपड़ीथी.जबउनकेठिकानोंपरइनकमटैक्सविभागकाछापापड़ाथातबवहांउसकेपासअरबोंरुपयेकेबंगले,गाड़ियां,शेयर,जेवरात,जमीनऔरकंपनियोंकापताचलाथा.नोएडा,ग्रेटरनोएडाऔरयमुनाएक्सप्रेसअथॉरिटीकेचीफइंजीनियररहतेहुएयादवसिंहनेदिसंबर2011में92करोड़रुपएकेअंडरग्राउंडकेबलकॉन्ट्रैक्टमेंभीनियमोंकापालननहींकियागयाथा.प्रदेशमेंअखिलेशसरकारआनेकेबादमायावतीकेकार्यकालकीजांचहुई.इसीदौरानयादवसिंहनपे.2011केउसघूसमामलेपरयूपीपुलिसने13जून2012कोएफआईआरदर्जकिया.हैरतअंगेजतरीकेसेइसकेकुछहीमहीनेबाद3जनवरीकोमामलेकीक्लोजररिपोर्टपेशकरदीगईऔरसरकारनेउसे27अप्रैलकोकबूलभीकरलिया.आरोपोंकीवजहसेयादवसिंहकोडिमोटकरकेप्रोजेक्टमैनेजरबनादियागयाथा,लेकिनक्लोजररिपोर्टकेकबूलहोतेहीउन्हेंदोबाराचीफइंजीनियरबनादियागया.

यादवसिंहपरहैंयेमामले

आयसेअधिकसंपत्तिऔरबड़ेपैमानेपरभ्रष्टाचारसीबीआईकेदोकेसमेंआरोपीयादवसिंहपरआपराधिकसाजिश,हेराफेरीऔरधोखाधड़ीकाआरोपहै.सीबीआईनेयादवसिंहपरधारा409,420,466,467,469,481औरभ्रष्टाचारनिरोधककानूनकेतहतमामलादर्जकियाहै.गिरफ्तारीसेपहलेसीबीआईनेकईबारयादवसिंहकोपूछताछकेलिएदिल्लीबुलायाथा.सीबीआईनेयादवसिंहकेभ्रष्टाचारकेरैकेटसेजुड़ेइंजीनियररमेंद्रसिंहको18दिसंबरकोगिरफ्तारकियाथा.

कबक्याहुआ

03नवंबर2012सपासरकारनेयादवसिंहकेखिलाफ954करोड़कीपरियोजनाओंमेंअपनेलोगोंठेकेदेनेकेमामलेमेंजांचसीबीसीआईडीकोसौंपी.27नवंबर2014कोसीबीसीआईडीकीफाइनलरिपोर्टकोअदालतमेंमंजूरकरलिया.27नवंबर2014औरअगलेदिनइनकमटैक्सडिपार्टमेंटनेनोएडा,दिल्ली,गाजियाबादमेंयादवसिंहकेठिकानोंपरछापामारा.इसकेबाद08दिसंबर2014कोराज्यसरकारनेनिलंबितकरविभागीयजांचबैठाई.10दिसंबर2014कोहाईकोर्टकीलखनऊबेंचमेंयादवसिंहकीजांचसीबीआईसेकरानेकीयाचिकादाखिलकीगई.16दिसंबर2014कोयाचिकापरकोर्टनेकेंद्र,नोएडाप्राधिकरण,राज्यसरकारऔरयादवसिंहकोनोटिसजारीकिया.10फरवरी2015कोराज्यसरकारनेहाईकोर्टकेरिटायरजस्टिसएएनवर्माकीअध्यक्षतामेंएकसदस्यीयन्यायिकजांचआयोगगठितकिया.24फरवरी2015कोवित्तमंत्रालयनईदिल्लीनेराज्यसरकारकेमुख्यसचिवआलोकरंजनकोपत्रलिखकरयादवसिंहसेजुड़ेदस्तावेजसीबीआईकोदेनेकोकहा.06अप्रैल2015कोराज्यसरकारनेकेंद्रकोयहकहतेहुएसीबीआईकोदस्तावेजदेनेसेइंकारकरदियाऔरकहाकिन्यायिकआयोगजांचकररहाहै.11जुलाई2015कोराज्यसरकारनेआर्थिकअपराधशाखा(ईओडब्ल्यू)सेकहाकिवहभीइसजांचमेंन्यायिकआयोगकीमददकरे.16जुलाई2015कोहाईकोर्टनेयादवसिंहकेखिलाफसीबीआईजांचकरनेकेआदेशदेदिए.हाईकोर्टनेतीखेएतराजभीजताए.04अगस्त2015कोसीबीआईनेयादवसिंह,उनकीपत्नीऔरसाझेदारोंसमेत14ठिकानोंपरछापेमारे.इसदौरान10करोड़नकद,दोकिलोसोनाऔर100करोड़रुपयेकीमतकेकरीबकेगहनेजब्तकिएगएथे.