प्राइवेट जांच घरों में भी मुफ्त जांच की व्‍यवस्‍था, लैटेंट टीबी की पहचान के लिए सरकार ने उठाया कदम

2025तकटीबीमुक्तिकाहैलक्ष्‍य

गोपनीयताबरतनेपररहेगाखासध्‍यान

समितिकेअनुसारनिजीलैबकरारकेबादरोगीकोमुफ्तआइजीआरएटेस्टकीसुविधादेंगेसाथहीइसकीगोपनीयताभीसुनिश्चितकरेंगे।मरीजोंकेसैंपलभीघरसेसंग्रहितकिएजाएंगे।ग्रामीणक्षेत्रोंकीभांतिहीसैंपलसंग्रहकीव्यवस्थाहोगी।टीबीएलिमिनेशनप्रोग्रामकेतहतयहकार्यक्रमसंचालितहोगा।बतादेंकिसरकारनेप्रत्येकवर्षकरीब2.34लाखआइजीआरएटेस्टकालक्ष्य2020मेंमिलेटीबीमरीजोंकीसंख्याकेआधारपरतयकियागयाहै।इसमें10से20प्रतिशतवृद्धिकाअनुमानहै।बतादेंकि2020मेंसर्वाधिकटीबीमरीजदरभंगाजिलेमेंमिलेथे।यहां 22349केसमिले।जबकिमुजफ्फरपुरमें18882,पूर्णियामें17064,सारणमें17058केसपाएगए।पटनामेंसबसेकम6924टीबीकेमामलेमिलेथे।