पर्वतों तिरंगा लहरा रहा बलिदानी का बेटा

दिलीपशर्मा,मैनपुरी:पितापरपूत..सईसपरघोड़ा..बहुतनहींतोथोड़ा-थोड़ा।जांबाजीभीएकतरहकीनस्लहै।कारगिलयुद्धमेंजिनचोटियोंपरपितानेदुश्मनकेदांतखंट्टेकिएथे,वहींबेटापर्वतोंकीचोटियांफतहकरउनकागुरूरतोड़रहाहै।वहफतहकरतिरंगालहरारहेहैं।

21सालपहलेकारगिलयुद्धमेंगांवअंजनीनिवासीप्रवीणकुमारयादवपुत्रजगदीशयादवनेजानन्योछावरकरदीथी।उससमयछोटाबेटाललितकेवलसातवर्षकाथा।बेटेनेपिताकीशहादतकासम्मानकरवैसाहीकुछकरनेकासंकल्पलिया।किसीकिताबमेंपर्वतारोहणकेबारेमेंपढ़ाऔरफिरतयकियाकिऊंची-ऊंचीचोटियोंपरफतहपानीहै।वर्ष2012मेंदेहरादूनकेसमरफीडस्कूलसे12वींऔरमनालीस्थितअटलबिहारीवाजपेयीइंस्टीट्यूटऑफमाउंटेनियरिगकीडिग्रीली।सबसेपहलेहिमालयकी19हजार932फीटऊंचीहनुमानटिब्बाचोटीपरचढ़ाईशुरूकी।नौदिनमेंदोसाथियोंकेसाथइसचोटीकोफतहकरतिरंगाफहराया।

वर्ष2019मेंउत्तरकाशीकीब्लैकपीककहीजानेवाली6200फीटऊंचीचोटीको14दिनकेपर्वतारोहणकेबादफतहकरलिया।बीचमेंहीलौटआएथे16पर्वतारोही:

ललितबतातेहैंकिहनुमानटिब्बापरचढ़ाईको22लोगोंकादलबनाथा।14हजारफीटकीचढ़ाईकेबादही16लोगलौटआए।शेषबचेछहमेंसेतीननेभीबादमेंहिम्मतछोड़दी।वहऔरउनकेदोसाथियोंकाहौसलाकमनहींहुआ।एवरेस्टपरतिरंगाफहरानेकीहैख्वाहिश:

बलिदानीकेबेटेकीख्वाहिशअबमाउंटएवरेस्टपरतिरंगाफहरानेकीहै।ललितनेबतायाकिवहएवरेस्टपरचढ़ाईकीतैयारीकररहेहैं।परिवारकोहैशहादतपरगर्व

प्रवीणकुमारकीशहादतपरपूरेपरिवारकोगर्वहै।उनकीपत्नीवीरनारीसुमनयादवनेअपनेबेटे-बेटियोंमेंभीदेशभक्तिकीभावनाभरीहै।बड़ाबेटाअमितयादवशहादतकेबादमिलीगैसएजेंसीचलाताहै।पुत्रअमितऔरललितबतातेहैंकिवहभीपिताकीतरहफौजमेंजाकरदेशकीरक्षाकरनाचाहतेथे,परंतुकिन्हींकारणोंवशऐसानहींहोसका।

----देशकेनामवीरनारीकीपाती

इससमयदेशसंकटकेदौरसेगुजररहाहै।यहहमारेराष्ट्रकेलिएकठिनवक्तहै।एकतरफसबकोरोनाजैसीमहामारीसेजूझरहेहैंतोदूसरीतरफदुश्मनदेशहमारीजमीनपरकब्जेकीसाजिशरचरहेहैं।ऐसेमेंहरतरफराष्ट्रभक्तिकीभावनादिखनीचाहिए।सैनिकदेशकेलिएप्राणन्योछावरकरतेहैं।उनकेबच्चेजीवनकेलिएअपनेपितासेअलगहोजातेहैं।इसत्यागकामूल्यसिर्फशहीदकापरिवारहीसमझताहै।मैंनेऔरमेरेपरिवारनेयहत्यागकियाहै।सेनाकेशौर्यऔरसैनिकोंकीशहादतपरराजनीतिकरनेवालोंकोइसत्यागकाअहसासकरनाचाहिए।घरपरिवारसेदूरसैनिकजबबॉर्डरपरलड़ाईलड़तेहैंतोवहयहीसोचतेहैंकिहमदेशकेलिएलड़रहेहैं।

सुमनयादव,वीरनारी