शिविर में हुई बुजुर्ग मरीजों की जांच

पूर्णिया।अंतरराष्ट्रीयबुजुर्गदिवसकेमौकेपरसदरअस्पतालपरिसरमेंआयोजितकैंपकासिविलसर्जनडॉ.कृष्णमोहनपूर्वेनेउद्घाटनकिया।इसमेंमानसिकरोगसमेतसातडॉक्टरोंनेकैंपमेंपहुंचनेवालेवरिष्ठनागरिकोंकेस्वास्थ्यजांचकरदवादी।शिविरमें58मरीजोंकीजांचकीगईऔरदवादीगई।इसमौकेपरसिविलसर्जननेकहाकिबुजुर्गाेंकाख्यालरखनासमाजकेसभीलोगोंकीजिम्मेदारीहै।उन्होंनेकहाकिअनुभवकाविकल्पनहींहैयहसमयकेसाथहीप्राप्तहोताहैइसलिएसभीकोबुजुर्गोकेमार्गदर्शनकीहमेशाआवश्यकतारहतीहै।इसउम्रमेंसबसेअधिकपरेशानीस्वास्थ्यकीरहतीहै।सीएसनेकहाकिअस्पतालमेंनियमितवरिष्ठनागरिकोंकेलिएएककाउंटरहोताहैजहांउनकोडॉक्टरदेखतेहैंऔरदवादीजातीहै।इसकेसाथहीसदरअस्पतालमेंअलगसेबुजुर्गोंकेलिएएकवार्डकासंचालनजल्दशुरूहोगा।अस्पतालप्रबंधकसिंपीकुमारीनेकहाकिशिविरमेंशुगरजांच,ईसीजी,ब्लडप्रेशर,हेमोग्लोबिनसहितकईतरहकीजांचकीव्यवस्थाथी।इसमौकेपरबुजुगरेंकोस्वास्थ्यकर्मियोंनेस्वास्थ्यकेप्रतिजागरूककिया।वरिष्ठचिकित्सकडॉ.एनकेझानेकहाकिइसउम्रमेंखानपानकेसाथसेहतकाविशेषख्यालरखनाचाहिए।जागरूकताबहुतजरूरीहै।समयपररोगकीपहचानहोनाजरूरीहै।बुजुर्गोकोअपनेसेहतकाविशेषख्यालरखनाचाहिए।बच्चाऔरबुजुर्गेंएकसमानवालीकहावतगलतनहींहै।इसउम्रमेंबराबरसेहतकीनिगरानीरखनाजरूरीहै।अस्पतालअधीक्षकडॉ.जीकेघोष,डॉ.सुशीलादास,केडीशरण,संजयकुमारदिनकरआदिउपस्थितथे।