सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से पूछा, क्या पनामा पेपर्स की जांच के लिए एसआईटी की जरुरत है

नईदिल्लीसुप्रीमकोर्टनेमंगलवारकोसरकारसेपूछाकिक्यापनामापेपर्समेंभारतीयोंकेविदेशीखातोंकीजांचकेलिएएसआईटीगठितकरनीचाहिए।जस्टिसदीपकमिश्राकीअध्यक्षतावालीतीनसदस्यीयखंडपीठनेअडिशनलसलिसिटरजनरलपीएसनरसिम्हनसेकहाकिइसबारेमेंआवश्यकनिर्देशप्राप्तकरबताएंकिपनामापेपर्सकीजांचकेकामकेलिएएसआईटीगठितहोसकतीहै।बतादेंकिसरकारनेभीकालेधनकेमामलोंकीजांचकेलिएमल्टी-एजेंसीग्रुप्सकागठनकियाहै।कोर्टनेनरसिम्हनकोमल्टीएजेंसीग्रुप्सकीसातवींरिपोर्टतीनदिनकेभीतरदाखिलकरनेकाआदेशदिया।इसकेसाथहीकोर्टनेकालेधनकेमामलोंमेंजांचकेबारेमेंसीलबंदलिफाफेमेंदाखिलछठीरिपोर्टरिकार्डमेंली।पीठनेनरसिम्हनकोइससंबंधमेंलिएगएनिर्णयकीजानकारीसेअवगतकरानेकानिर्देशदेतेहुएसुनवाईजुलाईतककेलिएस्थगितकरदी।इससेपहले,सुनवाईशुरूहोतेहीअडिशनलसलिसिटरजनरलनेकहाकिएकवेबसाइटद्वाराजारीनामोंकीजांचकाकामसाधारणनहींहैऔरकईएजेंसियांइसकीजांचकरकेविवरणप्राप्तकरनेकाप्रयासकररहीहैं।एकअलगजांचदलकाविरोधकरतेहुएउन्होंनेकहाकिइनमामलोंकीजांचसाधारणअपराधोंकीजांचजैसीनहींहैक्योंकिइसमेंदूसरेदेशोंकेसाथहुईसंधियां,खुलासेकेलिएसमझौतेजैसेविभिन्नपहलूजुडे़हैं।न्यायालयनेयाचिकाकर्तावकीलमनोहरलालशर्मासेकहाकिवे(मल्टीएजेंसियां)मामलेकीजांचकररहीहैंऔरहमउचितसमयपरइसजांचकेनतीजोंपरगौरकरेंगे।केंद्रसरकारनेकालेधनकीजांचकेलिएमल्टीएजेंसीग्रुप्सगठितकियाथाजिसमेंकेंद्रीयप्रत्यक्षकरबोर्ड,भारतीयरिजर्वबैंक,प्रवर्तननिदेशालयऔरफाइनैंशलइटेलिजंसयूनिटकोशामिलकियागयाथा।यहग्रुपपनामादस्तावेजोंकेलीकमामलेकीभीजांचकररहाहै।