सुविधाओं के अभाव में इलाज की दुविधा

जागरणसंवाददाता,उत्तरकाशी:

सीमांतजनपदउत्तरकाशीमेंस्वास्थ्यसेवाओंकेअभावमेंआजभीकईजिदगीअस्पतालपहुंचनेकीजद्दोजहदमेंदमतोड़रहीहैं।दैनिकजागरणकीओरसेशुक्रवारकोपहाड़ोंमेंबदहालस्वास्थ्यसेवाओंकोलेकररेडक्रासभवनमेंचौपालआयोजितकीगई।जिसमेंचिकित्सकों,सामाजिककार्यकत्र्ताओं,युवाओंऔरमहिलाओंनेखुलकरअपनेविचाररखे।जिसमेंपहाड़ोंकीस्वास्थ्यव्यवस्थाकोसुदृढ़करनेकीवकालतकीगई।

पहाड़मेंजनऔषधिकेंद्रकाकोईभीउपयोगनहींहोरहाहै।चिकित्सकोंकीअपनीकंपनीऔरअपनीमेडिकलदुकानेंहैं।इसपरसख्तनियंत्रणकीजरूरतहै।जननीसुरक्षायोजनावअन्ययोजनाओंसुविधानहींमिलरहीहै।अस्पतालोंमेंमानवसेवाकीभावनाभीजागृतहोनीचाहिए।माधवजोशी,चेयरमैन,रेडक्रासउत्तरकाशी

अस्पतालोंमेंचिकित्सकोंसेलेकरसभीस्वास्थ्यकर्मियोंमेंमानवताहोनीजरूरीहै।अगरचिकित्सकसंवेदनशीलहोंगेतोअस्पतालोंमेंमरीजोंकोइलाजकेसाथस्वस्थहोनेकेलिएमनोवैज्ञानिकऊर्जाभीमिलेगी।सिमरन,छात्रापीजीकालेजउत्तरकाशी

गांवमेंकिसीकीतबीयतखराबहोगईतो108कोसंपर्ककरनेकेलिएमोबाइलनेटवर्कतकनहींहै।फिरगांवसेकिसीतरहसड़कपरपहुंचेऔरप्राइवेटवाहनकियातोसड़ककीबदहालस्थितिहै।

समीक्षा,निवासीभराणगांवउत्तरकाशी

स्वास्थ्यनीतिमेंबदलावकीजरूरतहै।मैदानीक्षेत्रोंकेमानकपहाड़ोंमेंलागूहोरहेहैं।जोपहाड़ोंकीभौगोलिकस्थितिकेअनुसारसंभवनहींहै।इसलिएइसकीसमीक्षाकीआवश्यकताहै।जिससेपहाड़ीक्षेत्रमेंस्वास्थ्यव्यवस्थाएंसुदृढ़होसकें।

-डा.शैलेंद्रबिजल्वाणचिकित्सकउत्तरकाशी

राज्यस्तरपरमेडिकलकीपढ़ाईसस्तीहोनीचाहिए।जिससेयहांकेयुवाओंकोमेडिकलकीपढ़ाईकेलिएविदेशोंमेंनाजानापड़े।जिलाऔरतहसीलस्तरकेअस्पतालोंमेंसभीसुविधाएंहोनीजरूरीहै।

-द्वारिकासेमवाल,बीजबमअभियानकेप्रेणता

जोचिकित्सकपहाड़मेंहैंवहदवाएंनिजीमेडिकलस्टोरसेलिखरहेहैं।अस्पतालोंमेंदवाईउपलब्धहैतोमरीजोंकोनिश्शुल्कदवाईक्योंनहींदीजातीहै।इसकेअलावासीटीस्कैन,अल्ट्रासाउंड,एक्सरेजैसीसुविधाएंअस्पतालमेंनहींहै।

-संगीताथपलियाल,निवासीचिन्यालीसौड़

जिलाअस्पतालसहितसीएचसी,पीएचसीकीव्यवस्थासुधारनीचाहिए।जिलाअस्पतालकीस्थितियहहैकिरातकेसमयएंटीरैबीजकेइंजेक्शनउपलब्धनहींहोपातेहैं।स्वास्थ्यकर्मियोंकेव्यवहारमेंसुधारकीजरूरतभीहै।

सुशीलडिमरी,सचिवरेडक्रासउत्तरकाशी

पहाड़केअस्पतालरेफरसेंटरबनेहुएहैं।मेडिकललैबअच्छीनहींहैं।इनकेलिएमानकतयकिएजानेचाहिए।उत्तरकाशीमेंजोलैबहैंउनकीएकहीव्यक्तिकीएकहीजांचकीअलग-अलगरिपोर्टआतीहै।उमेशप्रसादबहुगुणा,शिक्षाविद,उत्तरकाशी

अस्पतालोंमेंलूट-खसोटबंदहोनीचाहिए।इसकेअलावासीएचसी,पीएचसीकाआपसमेंतालमेलनहींहै।पहाड़ोंमेंएकबड़ीसमस्याअस्पतालोंतकमरीजोंकोपहुंचानेकीभीहै।परिवहनकीसहीसुविधानहींहै।-आकाशबिष्ट,छात्र,राजकीयमहाविद्यालयचिन्यालीसौड़

चुनौतीऔरसमाधान

-सुदूरवर्तीसभीअस्पतालोंमेंचिकित्सककेसाथस्टाफकीतैनातीजरूरीहै।

-स्वास्थ्यकर्मियोंकेलिएरहने,खानेकीसुविधाएंसुलभहो।

-जिलेमेंमेडिकलकालेजखुले,जिससेपासआउटहोनेपरयुवाडाक्टरअपनेगांवमेंसेवादेसके।

-आयुषमानकेतहतसरकारीअस्पतालोंमेंमेडिसिनकीसुविधादीजानीचाहिए।

-चिकित्सकोंकीलापरवाहीसेअगरमरीजकीमौतहोतीहैतोउसकेलिएपोस्टमार्टमटीमदेहरादूनसेआनीचाहिए।

-अस्पतालोंमेंमरीजोंकीजांचकेलिएचाइनीजमशीनोंपरपूरीतरहसेप्रतिबंधहो।