यूपीः हार से BSP में हाहाकार, मायावती ने शुरू किया दिग्गजों के लिए 'घर वापसी' अभियान

उत्तरप्रदेशविधानसभाचुनावमेंबसपाकीहारनेमायावतीकोझकझोरकररखदियाहै.बसपानेअपनेसियासीइतिहासमेंसबसेखराबप्रदर्शनकियाऔरयहउसकीपांचवीहारहै.ऐसेमेंबसपाप्रमुखमायावती नएसिरेसेसंगठनकोखड़ाकरनेकीकवायदमेंहै,जिसकेलिएउन्होंनेपार्टीछोड़करदूसरेदलोंमेंजाचुकेदिग्गजनेताओंकीघरवापसीकरानेकीमुहिमशुरूकीहै.इसेबसपाकीभविष्यकीसियासीरणनीतिकेतौरपरदेखाजारहाहै.

बसपानेअपनेकॉर्डिनेटरकेजरिएउनसेसंपर्कसाधनाऔरउन्हेंलानेकीजद्दोजहदशुरूकरदीहै,जोएकसमयपार्टीकेमजबूतचेहराऔरजनाधारवालेनेतामानेजातेथे.इसीकड़ीमेंबीएसपीकॉर्डिनेटरकांग्रेसकेनेतानसीमुद्दीनसिद्दीकीसेमिलनेउनकेपासपहुंचेथे.बीएसपीकॉर्डिनेटरउन्हेंबीएसपीमेंदोबारासेवापसआनेकोलेकरबातचीतकी,लेकिनवोइसपरतैयारनहींहुए.

नसीमुद्दीनसिद्दीकीकेमुताबिकबसपाकेकईकॉर्डिनेटरोंनेउनसेमुलाकातकीहैऔरउन्हेंपार्टीमेंवापसआनेकेलिएऑफररखा,लेकिनउन्होंनेमनाकरदिया.नसीमुद्दीननेकहा,मैंकांग्रेसमेंरहूंगाऔरअबमेरेनेताराहुलगांधीऔरप्रियंकागांधीहै.

बतादेंकिनसीमुद्दीनसिद्दीकीको 2017केविधानसभाचुनावकेबादमायावतीनेपार्टीसेबाहरकारास्तादिखादियाथा,जिसकेबादउन्होंनेकांग्रेसकादामनथामलियाथा.नसीमुद्दीनने2019मेंबिजनौरसंसदीयसेकांग्रेसकेटिकटपरचुनावलड़ेथे,लेकिनजीतनातोदूरजमानतभीनहींबचासकेथे.

गुड्डूजमालीकीबसपामेंघरवापसी

बसपामेंघरवापसीकीशुरुआतपूर्वविधायकशाहआलमउर्फगुड्डूजमालीसेशुरूहोगई.बसपानेनसिर्फमुबारकपुरसेविधायकरहेगुड्डूजमालीकीपार्टीमेंवापसीकराई हैबल्किउन्हेंआजमगढ़सीटलोकसभाउपचुनावकेलिएप्रत्याशीभीघोषितकरदियाहै.आजमगढ़संसदीयसीटसेअखिलेशयादवनेइस्तीफादेदियाहै,जिसकेचलतेउपचुनावहोनेहैं.ऐसेमेंबसपानेगुड्डूजमालीपरदांवखेलकरबड़ासियासीदांवचलदियाहै.

गुड्डूजमालीबसपाकेटिकटपरसाल2012और2017मेंमुबारकपुरविधानसभासीटविधायकरहेहैं.2022चुनावसेठीकपहलेवहबसपासेनातातोड़करसपामेंचलेगएथे,लेकिनअखिलेशयादवनेउन्हेंटिकटनहींदिया.ऐसेमेंगुड्डूजमालीनेअसदुद्दीनओवैसीकीपार्टीएआईएमआईएमकेटिकटपरचुनावमेंउतरेऔर37हजारवोटहासिलकरनेमेंकामयाबरहे.बसपानेजमालीकीघरवापसीकरमुस्लिमोंकाहमदर्दहोनेकासंदेशदियाहै.

बतादेंकिबसपाकीरणनीतिहैकिमुस्लिमवदलितएकजुटसमीकरणकोबनाकरहीसपाऔरबीजेपीकेसियासीरथकोरोकसकतेहैं.कांशीरामकेदौरमेंबसपादलित-मुस्लिम-अतिपिछड़ीजातिकेगठजोड़कीहिमायतीरहीहै,लेकिनमायावतीकेदलित-ब्राह्मणकार्डचला,जिसकानतीजारहाकिमुस्लिमधीरे-धीरेसपामेंऔरअतिपिछड़ीजातियांबीजेपीमेंशिफ्टहोतेगएऔर2022केविधानसभाचुनावमेंपूरीतरहसेचलागया.

2022मेंसियासीझटकालगनेकेबादबसपाऐसेमेंएकबारफिरसेअपनेपुरानेसमीकरणपरलौटनाचाहतीहै,जिसकेलिएवोअपनेपुरानेनेताओंकीघरवापसीकाप्लानबनायाहै.मुस्लिमऔरगैरयदावओबीसीजातियोंकोदोबारासेलानेकीकवायदमेंहै.बाबूसिंहकुशवाह,स्वामीप्रसादमौर्य,नसीमुद्दीनसिद्दीकी,ओमप्रकाशराजभर,लालजीवर्मा,त्रिभवनदत्तद्ददूप्रसादजैसेकद्दावरनेताबसपाछोड़करजाचुकेहैं,जिनकेसहारेकभीमायावतीअतिपिछड़ीऔरमुस्लिमवोटोंकोअपनेसाथजोड़ेरखाथा.

वहीं,यूपीचुनावहारकेबादमायावतीनेकहाथाकिमुस्लिमसमाजनेउत्तरप्रदेशमेंबार-बारआजमाईपार्टीबसपासेज्यादासमाजवादीपार्टीपरभरोसाकरबड़ी'भारीभूल'कीहै.अगरमुस्लिमसमाजकावोटदलितसमाजकेवोटकेसाथमिलजातातोजिसतरहसेपश्चिमबंगालकेचुनावमेंतृणमूलकांग्रेस(टीएमसी)केसाथमिलकरबीजेपीकोधराशायीकरनेकाचमत्कारीपरिणामआयाथा,वैसेहीपरिणामउत्तरप्रदेशमेंभीदोहरायेजासकतेथे.इसकेसाथहीउन्होंनेदावाकियाथाकिकेवलबसपाहीउत्तरप्रदेशमेंबीजेपीकोरोकसकतीहै. ऐसेमेंअबफिरसेउसीमुहिमपरलौटनेकीकवायदमेंहै,लेकिनबसपाइसमेंकितनासफलहोगीयहतोवक्तहीबताएगा.